विधाओं के लिए साधना


विधाओं के लिए साधना
 
‘’विधाओं को सिद्ध किए बिना हम शत्रुओं को परास्त नहीं कर सकेंगे” ऐसा निर्णय कर रावण, कुंभकर्ण व विभीषण नानाविध विधाओं की सिद्धि के लिए भीम नामक अरण्य में साधनारत थे। इतने में वन-भ्रमण के लिए आगत जंबूद्वीप के अधिपति अनादृत नामक देव ने उन्हें देखा और उन्हें साधना से विचलित करने के लिए उसने अपने सेवकों एवं देवियों को आदेश दिया। देवियों एवं सेवक देवों ने उन्हें कई-कई अनुकूल और प्रतिकूल उपसर्ग दिए। मगर तीनों जनों में से कोई भी साधना से विचलित न हुआ। अंततः यक्षसेवकों ने अपनी मंत्र, विधा और माया शक्ति से जब रावण के सामने कुंभकर्ण व विभीषण का तथा कुंभकर्ण और  विभीषण के सामने रावण का मस्तक काट कर रखा तब अपने बड़े भाई के प्रति स्नेह के कारण कुंभकर्ण और विभीषण सामान्य रूप से क्षुब्ध जरूर हुए, मगर साधना से विचलित नहीं, जबकि रावण टस से मस न हुआ।
 
सहसा देवध्वनि हुई--साधु–साधु-साधु। इस ध्वनि के बीच ही आकाश और धरा को स्वयं के प्रकाश से भरती हुईं एक हजार विधाएं रावण के सामने यह कहती हुईं हाजिर हुईं कि “हम तुम्हारे आधीन हैं ।”
 
सिद्ध हुईं कुछ विधाओं के नाम निम्न हैं--प्रज्ञप्ती, रोहिणी, गौरी, गांधारी, नभ:संचारिणी, कामदायिनी, कामगामिनी, अणिमा, लघिमा, अक्षोभ्या, मन:स्तंभनकारिणी, सुविधाना, तपोरूपा, दहनी, विपुलोदरी, शुभप्रदा, रजोरूपा, दिन-रात्रिविधायिनी, वज्रोदरी, समाकृष्टि, अदर्शनी, अजरामरा, अनलस्तंभिनी, तोयस्तंभिनी, गिरिदारिणी, अवलोकिनी, वह्नि, घोरा, वीरा, भुजंगिनी, वारिणी, भुवना, अवंध्या, दारुणी, मदनाशिनी, भास्करी, रूपसंपन्ना, रोशनी, विजया, जया, वर्धनी, मोचिनी, वाराही, कुटिलाकृति, चित्रोद्भवकरी, शान्ति, कौबेरी, वशकारिणी, योगेश्वरी, बलोत्साही, चंडा, भीति, प्रघर्षिणी, दुर्निवारा, जगत्कंपकारिणी और भानुमालिनी इत्यादि।
 
राजकुमार कुंभकर्ण को संवृद्धि, जृंभिणी, सर्वापहारिणी, व्योमगामिनी और इन्द्राणी नामक पांच विधाएं तो विभीषण को सिद्धार्था, शत्रुदमनी, निर्व्याघाता, और आकाशगामिनी नामक चार विधाएं सिद्ध हुईं। 
 
(त्रिषष्टिश्लाकापुरुषचरित्र, पर्व7)