एक घोषणा

 

(संपादक : विजय धर्मधुरंधर सुरी)

 

नमि और विनमि के द्वारा वैताढ्य पर्वत की उत्तरी और दक्षिणी श्रेणी पर संस्थापित क्रमश: 40 और 50 नगरों, अन्य जनपदों तथा ग्रामों में रहने वाले पौरजन, विधाधर मदांध, दुर्विनीत, अनाचारी न बन जाएं अतःविधा संबंधी मर्यादा बताते हुए 

स्वयं धरणेन्द्र देव ने उच्च-ध्वनि से घोषणा की—

 

जो भी विधाधर जिनेश्वर भगवंत, जिनचैत्य, चरमशरीरी और कायोत्सर्गस्थित किसी भी मुनि का पराभव करेगा तो ये विधाएं उसे तत्काल छोड देंगी । तथा जो विधाधर स्वयं की पत्नी को मार देगा और इच्छा व्यक्त न करने वाली परस्त्री से रमण करेगा, तो भी विधाएं उसे तत्काल छोड देंगी ।

 

स्वयं विधादाता नागराज धरणेन्द्र देव ने अपनी उद्धोषणा के इन शब्दों को रत्नभित्ति पर भी उट्टंकित करवाया ताकि विधाधर सदा ध्यान रख सकें ।

 

(त्रिषष्टिश्लाकापुरुषचरित्र, पर्व 1)